एक दौर था जब हमें अपनी आवाज़ दुनिया तक पहुंचाने के लिये मीडिया का सहारा चाहिये होता था. एक दौर है जब हम सोशल मीडिया के ज़रिये मिनटों में दुनिया तक अपनी आवाज़ पहुंचा सकते हैं. दिन पर दिन हर किसी को सोशल मीडिया की पावर का एहसास भी हो रहा है.

आइये जानते हैं कब-कब सोशल मीडिया की आवाज़ आम जनता की ताक़त बन कर ऊभरी है

1. गौरव तनेजा केस

YouTuber और पायलट गौरव तनेजा ने एयर एशिया की सेफ़्टी को लेकर आवाज़ उठाई थी, जिसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था. गौरव तनेजा के एक ट्वीट ने सोशल मीडिया पर हल्ला मचा दिया और क़रीब दो महीने बाद सुरक्षा उल्लंघन मामले में एयर एशिया इंडिया के दो सीनियर अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया. इसके साथ कंपनी को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था.

2. बायकॉट चाइना

इंडो-चाइना विवाद बाद के बाद सोशल मीडिया पर चाइना की चीज़ों बायकॉट करने की पहल शुरू हुई. अंत में सरकार ने चाइना के 59 ऐप्स को बैन करने का निर्णय लिया.

3. सुशांत सिंह राजपूत मौत केस

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने सुसाइड की है या उनका मर्डर हुआ है. ये बात हर किसी के लिये एक रहस्य है. इसलिये सुंशात सिंह राजपूत के चाहने वालों ने सोशल मीडिया पर सीबीआई जांच का मुद्दा उठाया. हर दिन अभिनेता को लेकर सोशल मीडिया पर बहुत सी चीज़ें सामने आईं. आख़िराकर जीत जनता की हुई और सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दे दिये.

4. कोविड-19 में कैंसल होने वाली परीक्षा

कोविड-19 के दौरान JEE & NEET की होने वाली परीक्षाओं को लेकर सवाल उठा. सोशल मीडिया पर परीक्षा कैंसल करने को लेकर पहल की गई. कुछ टाइम में ही सोशल मीडिया की पावर दिखी और छात्राओं की सुरक्षा को देखते हुए JEE & NEET की परीक्षाएं कैंसल कर दी गईं.

5. Anti-Nepotism मूवमेंट

अकसर ही Nepotism पर बहस होती रहती थी, लेकिन मुद्दे ने ज़ोर सुशांत सिंह की मौत के बाद पकड़ा. इस समय हर कोई बॉलीवुड स्टार्स की फ़िल्मों को बायकॉट कर रहा है.

अब सोशल मीडिया को हल्के में नहीं लेना.

Life के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.