पहली बार मां बनना एक ख़ूबसूरत एहसास है. प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में बहुत सारे बदलाव होते हैं जैसे, खाने के टेस्ट में, मूड में, बैठने और चलने में. जिसे नींद नहीं भी आती उसे भी भर-भर के नींद आती है. इन चीज़ों के अलावा सबसे बड़ा बदलाव होता है एक औरत के लिए ये कि वो एक मां बन जाती है. कल तक जो एक बे परवाह लड़की थी, उन 9 महीनों के दौरान और उसके बाद एक ऐसी इंसान बन जाती है, जिसे सिर्फ़ अपने बच्चे से मतलब होता है. 

Source: lacounty

बच्चे के लिए जागना, उसका खाना-पीना और डायपर तक के बारे में भी वो सोचने लगती है. इसके बाद जब कोई कहता है न कि अरे तुम्हें पता नहीं चल रहा ये क्यों रो रहा/रही है, कैसी मां हो? ये शब्द पूरे 9 महीने के संघर्ष को सामने ला देते हैं.

Source: goodhousekeeping

मां बनना आसान नहीं होता. इस दौरान बहुत से बदलाव होते हैं जिसे एक औरत, मां बनकर ही महसूस करती है. क्या हैं वो बदलाव आइए जानते हैं? 

1. बच्चे को समझना मुश्किल होता है

Source: healthline

आपको अपने ही बच्चे को समझना बहुत मुश्किल हो जाता है क्योंकि कभी वो किसी बात के लिए ऐसे रोने लगेगा जैसे पता नहीं क्या हो गया हो? और उसके अगले पल या दूसरे दिन ही इतने शांत की आपको लगेगा कि कोई एंजल हो.

2. कभी-कभी डायपर भी धोखा देता है

Source: anses

बच्चे को डायपर पहनाने के बाद एक सुकून मिलता है कि अब कपड़े गीले नहीं होंगे तो बार-बार धोने नहीं पड़ेंगे. तभी आप देखती हैं कि उसका डायपर लीक हो रहा है और आपका कम होता हुआ काम एक सेकंड में बढ़ चुका है. उस वक़्त सारे ज़माने का पहाड़ टूट पड़ता है.

3. शादीशुदा ज़िंदगी भी बदल जाती है

Source: laverdadnoticias

बच्चे को डायपर पहनाने के बाद एक सुकून मिलता है कि अब कपड़े गीले नहीं होंगे तो बार-बार धोने नहीं पड़ेंगे. तभी आप देखती हैं कि उसका डायपर लीक हो रहा है और आपका कम होता हुआ काम एक सेकंड में बढ़ चुका है. उस वक़्त सारे ज़माने का पहाड़ टूट पड़ता है. 

4. ख़ुद पर प्रेशर बहुत आ जाता है

Source: youaremom

प्रेग्नेंसी के दौरान ही मांएं बच्चों की समझने की कोशिश करने लगती हैं और जब वो दुनिया में आता है तो सारा टाइम उसी में लगाती हैं. कैसे इसे खिलाना है पिलाना है. मगर जब कोई चीज़ आपके प्लान के मुताबिक़ नहीं होती है तो आपका वो प्रेशर आपको परेशान करने लगता है.

5. दूसरे अपनी राय देते रहते हैं

Source: verywellmind

बच्चे को कैसे पालना है उसे कैसे कपड़े पहनाने हैं, यहां तक कि उसे गोदी कैसे लेना है? इसकी सलाह भी दूसरे देने लग जाते हैं इस बहती गंगा में हाथ धोने से पड़ोसी भी पीछे नहीं हटते हैं. हद तो तब होती है जब अपने ही बच्चे को पालने के लिए राह चलते लोग भी सलाह देने लगते हैं.

6. आप 'हां' और 'न' में फंस कर रह जाती हैं

Source: todaysparent

एक मां बच्चे की ख़्वाहिश के लिए हां और न में ही फंस कर रह जाती है. हर बात पर हां भी करना ठीक नहीं होता और न करने पर उसके चेहरे की उदासी नहीं देखी जाती है. कितना मुश्किल हो जाता है मां के लिए अपने बच्चे के भले के लिए कठोर बनना.

7. मां में बहुत सारे बदलाव आते हैं

Source: indianexpress

पॉटी और उल्टी इन दोनों से सबको घिन आती है, जो लड़की उल्टी देखकर भाग जाती है. वही मां बनने के बाद बच्चे की हर चीज़ को अपना लेती है. अपने शरीर की, कपड़ों की परवाह किए बिना बस बच्चे में लगी रहती है. उसको साफ़ सुथरा रखने के लिए अपने नए कपड़े भी दे देती है.

8. बच्चे को फ़ीड कराना

Source: medicalnewstoday

एक मां जब बच्चे को दूध पिलाती है तो वो एहसास हर एहसास से बड़ा होता है. कुछ गर्भवती महिलाओं में समस्या के चलते दूध नहीं बनता है, जिसकी वजह से वो बच्चे को फ़ीड नहीं करा पाती है. ऐसे में उन्हें अपनी कसौटी पर खरा उतरना मुश्किल हो जाता है.

Women और Life के और आर्टिकल पढ़ने के लिए ScoopWhoop हिंदी पर क्लिक करें.