हमारी सुरक्षा के लिए खड़े जवान हमेशा अपनी ड्यूटी पर पूरी ईमानदारी से लगे रहते हैं. हाल ही में दिखे इस नज़ारे का बाद ये एक बार फिर साबित भी हो गया. दरअसल, जम्मू-कश्मीर में हुई ज़बरदस्त बर्फ़बारी के बीच जहां पर्यटकों और वहां पर रहने वाले लोगों का जनजीवन प्रभावित हो रहा है. ज़रूरी चीज़ों के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा है. लोगों के इस संघर्ष में भारतीय सेना के जवान पूरी तत्परता से उनका साथ दे रहे है.

इस बात में सच्चाई तब दिखी जब एक गर्भवती महिला शमिमा को अस्पताल पहुंचाने के लिए 100 से ज़्यादा भारतीय सेना के जवान और 30 स्थानीय नागरिक उसे 4 घंटे तक लेकर चलते रहे. दोनों को सही सलामत अस्पताल पहुंचा कर ही दम लिया. समय पर अस्पताल पहुंच जाने के चलते मां और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. आपको बता दें, बर्फ़बारी की चपेट में आकर पिछले चार सालों में 74 भारतीय जवान शहीद हो चुके हैं.

इन जवानों की हिम्मत की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर सभी को बधाई दी. उन्होंने लिखा,

हमारी सेना को उसकी वीरता और ड्यूटी को तत्परता से निभाने और मानवता के लिए जाना जाता है. जब भी लोगों को ज़रूरत होती है, हमारी सेना उस जगह पर मौजूद होती है. हमें सेना पर गर्व है. साथ ही शमीमा और उसके बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य की प्रार्थना भी की.

15 जनवरी को कुछ घंटे पहले साझा किए जाने के बाद से, वीडियो ने 75,000 से ज़्यादा लोग इसे लाइक और रीट्वीट कर चुकी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पोस्ट भी 15,000 से अधिक लाइक्स और 3,800 से अधिक रीट्वीट किए गए.

Life से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.