सपने देखे तो सबने होंगे, लेकिन उनके पूरा होने का विश्वास सबमें नहीं होता है. कुछ लोगों को यही चिंता रहती है कि उनका सपना पूरा होगा भी या नहीं, लेकिन जो चीज़ पूरी शिद्दत से चाहो तो वो मिल ही जाती है. आज की मेरी कहानी आपमें वही विश्वास भरेगी.

Source: medicalnewstoday

मैंने आपसे अपने ट्रैवल इक्सपीरियंस साझा करती रहती हूं अभी कुछ दिन पहले ही मैंने आपको बताया थाकि मेरा सपना था पहाड़ों के बीच एक सुनहरी सुबह को जीना जिसे मैंने जिया. वैसे ही मेरी सीनियर ने भी एक सपना देखा था, जो उन्हें लगा था पूरा नहीं होगा, मगर हो गया.

Source: tripadvisor

उन्होंने बताया,

उन्हें स्नोफ़ॉल देखना उनका सपना था, जो इस ट्रिप से पहले सपना ही रह गया था क्योंकि कई बार उन्होंने ट्रिप प्लान की थी मगर ऐसा हो नहीं पाया था. मगर इस बार की ट्रिप यादगार हो गई थी. दरअसल, पिछले महीने ही उन्होंने वैष्णो देवी की ट्रिप की थी. ये ट्रिप भले ही उन्होंने ठंड में की थी, लेकिन उन्होंने स्नोफ़ॉल की उम्मीद नहीं बांधी थी. माता के दर्शन के बाद कटरा पहुंची वहां के एक होटल में रुकीं.
Source: makemytrip

ठंड तो काफ़ी थी, लेकिन धूप भी थी तो स्नोफ़ॉल की उम्मीद दूर-दूर तक नहीं की थी. मगर कहते हैं न 'किसी चीज़ दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है' उनके साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ.

अगले दिन जब कटरा के होटल से पटनीटॉप के लिए निकलीं तो ड्राइवर ने बताया कि

पटनीटॉप से ऊपर नत्था टॉप पर बहुत बर्फ़ गिरी है, तो उन्हें लगा कि बर्फ़ होगी सिर्फ़, लेकिन स्नोफ़ॉल नहीं. अभी भी उन्हें बिलकुल उम्मीद नहीं थी कि उनका सपना पूरा हो सकता है. जब वहां पहुंची तो उन्हें बर्फ़ के साथ-साथ स्नोफ़ॉल भी दिखा और हाथों से बर्फ़ को महसूस करते हुए उन्होंने अपने उस सपने को पूरे दिल से जिया.

वाकई में जब किसी चीज़ की उम्मीद न हो और वो मिल जाए इससे बड़ी तो ख़ुशी कुछ भी नहीं होती है.

आपके पास भी कोई ऐसा अनुभव हो तो हमसे कमेंट बॉक्स में शेयर ज़रूर करिएगा.

Life से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.