कोरोना वायरस के दौरान हमने पुलिस की एक अलग ही छवि देखी है. रोज़ उनकी ड्यूटी और उनके व्यक्तिगत जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी कहानियां सुनने को मिल जाती हैं, जो बहुत ही प्रेरणादायक होती हैं. मिसाल के तौर पर, बेंगलुरु के एक पुलिस वाले ने अपनी ड्यूटी से पहले हर दिन प्रवासी कामगारों के बच्चों को पढ़ाया, वहीं केरल के पुलिसवाले ने एक छोटे बच्चे की पौधे के चोरी होने की शिकायत पर उसे एक पौधा और एक सीसीटीवी कैमरा गिफ़्ट किया.

navbharattimes

News18 की रिपोर्ट के अनुसार,

अब केरल के त्रिशूर ज़िले में चेरुथुथेरी के पुलिसवालों ने एक अनोखा काम करके दिखाया है. इन्होंने लंबे समय से ज़ब्त किए गए लावारिस पड़े वाहनों में सब्ज़ियां उगाकर कमाल का उपयोग किया. इनमें से पुलिस अधिकारी, रंगराज, एक किसान हैं, जिन्होंने फसलों की खेती करने की ज़िम्मेदारी ली. इसमें अन्य अधिकारियों सिम्पसन, सुधाकरन, बेबी, रंजीत, रघु और अनिल ने उनकी मदद की. इन सब्ज़ियों की खेती बिल्कुल ऑर्गेनिक तरीक़े से की गई है. 

उत्तर केरल के स्टेशन हाउस ऑफ़िसर (SHO) ने बताया,

जिस वाहन को अवैध गतिविधियों या एक्सीडेंट के समय ज़ब्त किया जाता है, उसके मालिक उन वाहनों को लेने नहीं आते हैं. अवैध वाहनों में मालिक को कोर्ट के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं इसलिए नहीं लेने आते हैं. और दुर्घटनाग्रस्त वाहन में वो अपनों को खो चुके होते हैं इसलिए उसे नहीं लेना चाहते हैं. ऐसे वाहन पुलिस स्टेशन में जंग खाते हैं. मगर पुलिस की ओर से ये हरित पहल इन वाहनों का एक बेहतरीन उपयोग है.

सिविल पुलिस अधिकारी सिम्पसन पीटी ने कहा,

हमारे पास कुछ मिनी लॉरी थीं जिन्हें हमने रेत और मिट्टी की तस्करी में पकड़ा था. तीन महीने पहले, हमने उनमें सब्ज़ियों की खेती करने का फ़ैसला किया. ये एक सफ़ल प्रयास था. हमारी जो पहली फसल हुई उसे हमने अपनी पुलिस कैंटीन को दी. 

पालक, भिंडी और फलियों की खेती के साथ शुरू किए गए इस अभियान को अब पुलिसकर्मी और भी आगे बढ़ाएंगे. 

Life के और आर्टिकल पढ़ने के लिए ScoopWhoop हिंदी पर क्लिक करें.