रियल लाइफ़ की कुछ कहानियां कभी-कभी रील लाइफ़ की कहानियों सी लगती हैं. एक ऐसा ही वाक़या बीते शनिवार भी हुआ. किस्सा तमिलनाडु का है, जहां एक शख़्स को 41 साल बाद अपनी मां से मिलने का मौका मिला. 43 वर्षीय डेविड नील्सन अपनी मां से मिलते ही रो पड़. वहीं धनलक्ष्मी से भी उसकी भावनाएं संभाली नहीं गईं और उनकी आंखों से आंसू झलक गये. मां-बेटे का ये मिलन सभी को भावुक कर देने वाला क्षण था. 

Danish Man
Source: IndiaTimes

मां-बेटे के बीच इतने सालों तक क्यों रहा फ़ासला? 

घर के ख़राब हालातों की वजह से धनलक्ष्मी ने डेविड नील्सन को एक शेल्टर होम में रख दिया था. वहीं जब कुछ समय बाद वो शेल्टर होम पहुंची, तो उन्हें पता चला कि उनके बेटे को डेनमार्क के एक परिवार ने गोद ले लिया है. 1976 में आरएसआरएम अस्पताल में जन्मे डेविड नील्सन उस वक़्त दो साल के थे. 

Danish Man
Source: IndiaTimes

वहीं बेटे की याद के तौर पर धनलक्ष्मी के पास उनके बेटे की वो तस्वीर थी, जो डेनमार्क से डेविड को गोद लेने वाले दंपति ने शेल्टर होम के अधिकारियों को भेजी थी. 

Source: TOI

बेटे ने जारी की तलाश 

उम्र के एक पड़ाव पर आकर डेविड ने अपनी असली मां की तलाश करनी शुरू की. मां का पता लगाने निकले डेविड के पास सिर्फ़ एक फ़ोटो और पल्लावरम के उस शेल्टर होम का पता था, जो 1990 में ही बंद हो चुका था. डेविड लगातार अपनी मां से मिलने का प्रयास कर रहे थे और इसी प्रयास के कारण वो 39 साल में चेन्नई पहुंचे. 

2013 में डेविड ने चेन्नई के ऐक्टिविस्ट क्टिविस्ट अरुण दोहले से मिल कर अपनी मां की तलाश शुरू की. ये तलाश इतनी लंबी चली कि 6 साल बाद अब जाकर ख़त्म हुई. 

इस कहानी के बारे में सिर्फ़ यही कहेंगे कि इंतज़ार का फल सच में मीठा होता है. 

Life के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.