मुझे मेरे ऑफ़िस में क़रीब डेढ़ साल होने वाले हैं और इन डेढ़ सालों में मैंने न जाने कितनी कैब, बस, मेट्रो और ऑटो में सफ़र किया है. जैसा मैंने आपको पिछले आर्टिकल में बताया था कि बस न आने की वजह से मैं कैब में ही जाती हूं तो आजकल और अगर पहले के भी कुछ दिन जोड़ लो तो शायद कैब का सफ़र ज़्यादा निकलेगा.

imdb

इस सफ़र के दौरान मैं कई कैब ड्राइवर्स से मिली हूं. कभी-कभी रात में लेट हो जाता है घर जाने में तो भी कैब ही बुलाती हूं. यक़ीन मानिएगा आज तक इन डेढ़ सालों में मुझे कोई भी ऐसा कैब ड्राइवर नहीं मिला जिसने मुझसे ग़लत तरीके से बात की हो या उसके बात करने के तरीके से मुझे कोई भी असहजता हुई हो.

indiatvnews

सबने मुझसे बहुत ही सलीके से बात की. अगर कभी थोड़ा आगे-पीछे भी छोड़ना पड़ा तो छोड़ दिया. एक ड्राइवर का क़िस्सा बताती हूं. मैंने ऑफ़िस के लिए कैब बुलाई, मैं कैब में बैठी और इयरफो़न लगाकर गाने सुनने लगी. तभी मेरी और कैब ड्राइवर की कुछ बात-चीत शुरू हुई और उसने मुझे अपने बारे में सबकुछ बताना शुरू कर दिया. उसने बताया कि मैडम मेरे भाई की शादी हो गई थी उसकी डेथ हो गई और फिर मेरी भाभी की शादी मुझसे करा दी गई. आज हम बहुत ख़ुश हैं और मेरे भाई और भाभी का एक बेटा था वो भी मुझे अपने पापा से कम नहीं समझता. 

एक पल को मुझे लगा कि मैं इसके घर की थोड़ी ही हूं जो ये सब कुछ मुझे बता रहा है. फिर मुझे लगा कि कुछ एहसास हुआ होगा कि मैं इसकी बातों को सुनूंगी शायद इसलिए मुझे बताने लगा. इसके बाद मेरा ऑफ़िस आ गया और मैं कैब से उतरने लगी तो उसने मुझे थैंक्यू बोला वो इसलिए क्योंकि मैंने उसकी बातें ध्यान से सुनीं.

thebalancecareers

ऐसे ही एक बार मुझे एक ड्राइवर मिला. उसने बताया कि वो फ़ैमिली वाला है और बच्चों को अच्छी जगह पढ़ाने के लिए वो कैब के बाद मेंहदी लगाने का और भी कई छोटे-छोटे काम करता है. ऐसे क़िस्से तो बहुत हैं. पर इनकी बातें ये सोचने पर मजबूर कर देती हैं कि मुझे ही क्यों ऐसे ड्राइवर मिलते हैं?

thehindubusinessline

ऐसा शायद इसलिए होगा क्योंकि मैं इनकी बात को अपने शब्दों में पिरोकर आप तक पहुंचा सकती हूं और आपको इस बात को सोचने पर मजबूर कर सकती हूं कि इस दुनिया में अभी ऐसे लोग बचे हैं जो लोगों के साथ अच्छा करते है.

bu

आज ये क़िस्से मैं आप तक इसलिए लाई क्योंकि मुझे जब भी किसी ने बताया तो यही बताया कि उस ड्राइवर ने ऐसा कर दिया. वो मुझे ऐसे घूर रहा था, वो मुझसे ऐसे बातें कर रहा था. मैं मानती हूं आपको ऐसे लोगो मिले होंगे, लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते हैं. इसी तरह हर तरह के इंसान भी इस दुनिया में होते हैं. 

Life से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.