दुख पता है क्या होता है? नहीं पता तो आज मैं बताती हूं. मेरी ये कहानी सुनकर हो सकता है आपका दर्द भी छलक उठे क्योंकि आप में से कितने लोग होंगे जो मेरी तरह रोज़ इस दर्द से गुज़रते होंगे, लेकिन कह नहीं पाते. इसलिए आज मैं आप सबकी आवाज़ बनकर ये कहना चाहती हूं, ताकि इसे पढ़ने के बाद आपको लगे कोई तो है आपका.

Source: hindustantimes

चलिए अब ज़्यादा इंतज़ार नहीं कराऊंगी बता ही देती हूं क्या है वो दर्द. दरअसल, रोज़ बस से आती हूं, कभी डायरेक्ट वाली मिल जाती है तो कभी छूट जाती है. जब छूट जाती है तब एक ही जगह तीन बस बदलनी पड़ती है. ये सोचते ही मेरी सारी इंद्रियां जवाब देने लगती हैं, लेकिन क्या करूं ऑफ़िस तो जाना ही है न?

Source: duupdates

आज क्या हुआ मैंने घर से बस स्टैंड तक कैब ली और बस स्टैंड पहुंचने ही वाली थी उससे पहले रेडलाइट हो गई. उस रेड लाइट को देखकर बहुत गुस्सा आया, लेकिन उस रेड लाइट के बीच मेरी 717 नम्बर की बस निकल गई. वो देखकर तो ऐसा लगा धरती फट जाए और मैं उसमें समा जाऊं क्योंकि ट्रैफ़िक जाम भी बहुत था और मेरी बस भी निकल गई.

उस एक बस के छूटने से पता है, मैं 45 मिनट में पहुंचती हूं और मैं पहुंची 1 घंटे 15 मिनट में. ऐसा कई बार होता है. मगर सच बताऊं ग़लती मेरी नहीं, बल्कि बस की है. जब मैं टाइम से पहले बस स्टैंड पर होती हूं तो बस आती नहीं है और जब थोड़ा सा लेट होती हूं तो सामने से निकल जाती है. मुझे लगता है ये मुझसे पिछले जनम का कोई बदला ले रही है. इसीलिए तो जब होता है मुझे ठेंगा दिखाकर मेरे सामने से निकल जाती है.

Source: intelligenttransport

इससे इतना ही कहूंगी बहन अब हमारा साथ ज़्यादा दिनों का नहीं रहने वाला है तो मेरी बात तो नहीं करूंगी, लेकिन बाकी लोगों के दर्द को समझो और थोड़ा सा वेट कर लिया करो.

Life से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.

Feature Image Illustrated By: Shanu Ketholia