Gujarati Dish Surti Locho: देश के समृद्ध राज्यों में से एक गुजरात अपने केवल हीरे के व्यापार के लिए ही नहीं बल्कि अपनी कला, संस्कृति और खान-पान के लिए भी जाना जाता है. गुजरात की प्रमुख ट्रेडिशनल डिशेज़ ढोकला, खांडवी, खाखरा, थेपला और दाबेली आज देशभर में काफ़ी मशहूर हैं. गुजरात ख़ासकर अपने खट्टे-मीठे भोजन के लिए जाना जाता है. लेकिन यहां का स्ट्रीट फ़ूड (Street Food) हर मायने में दूसरों से एकदम अलग है. बात जब गुजरात के स्ट्रीट फ़ूड की ही हो रही है तो यहां का मशहूर ब्रेकफ़ास्ट सूरती लोचो (Surti Locho) को कैसे भूल सकते हैं. 

ये भी पढ़िए: Winter Food Of Uttarakhand: ठंड के मौसम में उत्तराखंड के ये 6 विंटर फ़ूड ज़रूर ट्राय करें

nehascookbook

अगर आप भी कभी गुजरात गए हों तो आपने भी ये डिश ज़रूर खाई होगी. ये गुजरात के हर घर का प्रमुख ब्रेकफ़ास्ट है. इसके साथ ही सूरती लोचो (Surti Locho) स्ट्रीट फ़ूड के तौर पर भी लोगों के बीच काफ़ी मशहूर है. अगर आप भी हेल्दी स्ट्रीट फ़ूड खाना पसंद करते हैं तो ‘सूरती लोचो’ आपको निराश नहीं करेगा. ऐसा इसलिए क्योंकि इसे बेहद कम तेल और भाप में पकाया जाता है. इसे मसालेदार और चटपटी चटनी, मिर्च और सेव के साथ इसे सर्व किया जाता है. 

timesofindia

सूरती लोचो (Surti Locho) मुख्य रूप से सूरत शहर में काफ़ी मशहूर है. ये यहां फरसान सुरती लोचो के नाम से भी प्रचलित है. इसके अलावा ये नवसारी और दक्षिण गुजरात के अन्य क्षेत्रों में भी काफ़ी लोकप्रिय है.

‘सूरती लोचो’ के बनने की कहानी है दिलचस्प

सूरती लोचो (Surti Locho) के नाम से ही आपको अंदाज़ा हो गया होगा कि ये हिंदी के शब्द ‘लोचा’ से काफ़ी मिलता जुलता है. गुजराती में ‘लोचा’ को ‘लोचो’ कहा जाता है. सूरत में ऐसा कहा जाता है कि ‘सूरती लोचो’ एक ऐसे व्यक्ति का आविष्कार था जो वास्तव में ‘खमन’ बनाने की कोशिश कर रहा था. इस दौरान ‘खमन’ को स्टीम करने के बाद उसने देखा कि बैटर में अतिरिक्त पानी था जिसके कारण खमन अपने आकार में नहीं था और एक मटमैले मिश्रण में बदल गया. 

Myvegetarianroots

‘सूरती लोचो’ नाम की कहानी

इस मिश्रण से उसने कुछ बनाने का फ़ैसला किया और झट से एक अनोखी डिश तैयार कर ली. इसके बाद उस शख़्स ने दुकान पर आये ग्राहकों को ये डिश बेचने की कोशिश की तो ये लोगों को काफ़ी पसंद आयी. आश्चर्यजनक रूप से ये व्यंजन कुछ ही दिनों में हिट हो गया. इस शख़्स के अनियोजित आविष्कार के कारण इस व्यंजन का नाम ‘लोचो’ पड़ा और आज ये सूरत का सबसे प्रसिद्ध नाश्ता बन गया है. इस डिश का अविष्कार सूरत में हुआ था इसलिए इसका नाम ‘सूरती लोचो’ यानी ‘सूरत का लोचा’ पड़ गया.  

Myvegetarianroots

सूरती लोचो बनाने की विधि (Surti Locho Recipe)

सूरती लोचो (Surti Locho) मुख्य रूप से चना दाल, धुली उरद दाल और पोहा से बनाया जाता है. इसके अलावा हरी मिर्च, अदरक पेस्ट, हींग, हल्दी पाउडर, काली मिर्च, लाल मिर्च पाउडर, ईनो, नमक, हरे धनिये की चटनी, हरा धनिया, हरी मिर्च, नीबू और बारीक सेव भी इसे स्वादिष्ट बनाने का काम करते हैं. सूरती लोचो बनाने के लिए सबसे पहले चने की दाल और धुली उरद दाल को क़रीब 5 से 6 घंटे के लिए पानी में भिगो कर रखना पड़ता है. जबकि पोहे को भी क़रीब 10 मिनट तक पानी में भिगोया जाता है. 

कैसे किया जाता है ‘सुरती लोचो’ सर्व

सूरती लोचो (Surti Locho) को गरम-गरम खाने में ही मज़ा आता है. प्लेट में निकालने के बाद इसे चमचे से बीच से फाड़ लीजिए. इसके बाद ऊपर से एक छोटी चम्मच नीबू का रस, 1 से 2 छोटी चम्मच चटनी, थोड़ा सा हरा धनियां और 2 -3 टेबल स्पून सेब भी डाल दीजिये. अगर आप चटपटा खाने के शौक़ीन हैं तो क्रिस्प तली हुई साबुत हरी मिर्च ऊपर से डाल लीजिए और सुरती लोचो की प्लेट तैयार हो गई.