अगर इस वक़्त किसी को सबसे अधिक मदद की ज़रूरत है, तो वो हैं प्रवासी मज़दूर. जो सही-सलामत घर पहुंचने के लिये संघर्ष कर रहे हैं. इन्हीं मज़दूरों की मदद के लिये एक प्राइवेट कंपनी ने हाथ आगे बढ़ाया है. 

migrants
Source: deccanherald

दिल्ली स्थित इंटर लिंक फू़ड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने चार्टर प्लेन बुक कर 180 मज़दूरों को रांची पहुंचाया. दरअसल, झारखंड सीएम द्वारा उद्योग जगत से झारखंड के श्रमिकों को वापस लाने के लिये सहायता की अपील की थी. सीएम हेमंत सोरेन ने ट्वीट करते हुए कहा था कि हमने लद्दाख और अंडमान जैसी जगहों से प्रवासी श्रमिकों को वापस लाने का काफ़ी प्रयास किया है. पर अभी भी हमारे मज़दूर उन जगहों पर फंसे हुए हैं. कॉरपोरेट उद्योग जगत इस बारे में झारखंड सरकार की मदद करे. 

श्रमिकों की परवाह के लिये राज्य सरकार का प्रयास और निवेदन सराहनीय है. हर सीएम को अपने राज्यों के मज़दूरों के लिये फ़्रिकमंद होना चाहिये. इसके अलावा जो प्राइवेट कंपनी मदद के लिये आगे आई, वो भी सराहनीय है. 

News के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.