बिहार के दरभंगा के रहने वाले संतोष कुमार यादव परीक्षा केंद्र में 10 मिनट देरी से पहुंचे. इसके चलते उन्हें NEET परीक्षा देने को नहीं मिली. संतोष 24 घंटे से ज़्यादा समय में 700 किमी का सफ़र तय करके कोलकाता पहुंचे थे. NEET की परीक्षा कोलकाता के पूर्व में स्थित एक टाउन शिप सॉल्ट लेक के एक स्कूल में थी.

bihar boy travel 700 kms misses neet by 10 minuts late
Source: loksatta

Hindustan Times के अनुसार परीक्षा न दे पाने से मायूस संतोष कुमार यादव ने कहा,

मैंने अधिकारियों से बहुत गुज़ारिश की, लेकिन मुझे 10 मिनट की देरी हो जाने के कारण प्रवेश नहीं करने दिया. दरअसल, परीक्षा दोपहर 2 बजे शुरू हुई और मैं दोपहर क़रीब 1.40 बजे केंद्र पर पहुंचा. केंद्र में प्रवेश करने की अंतिम समय सीमा दोपहर 1.30 बजे थी. मेरा तो एक साल पूरा बर्बाद हो गया.
bihar boy travel 700 kms misses neet by 10 minuts late
Source: inshorts

संतोष ने आग बताया,

मैं शनिवार को सुबह 8 बजे दरभंगा की बस से मुज़फ़्फ़रपुर पहुंचा, वहां से मैंने पटना के लिए बस ली, लेकिन रास्ते में ट्रैफ़िक जाम बहुत था और मुझे लगभग 6 घंटे की देरी हो गई. मैंने रात 9 बजे पटना से दूसरी बस ली. बस ने मुझे 1.06 बजे सियालदह स्टेशन (कोलकाता में) के पास उतारा. इसके बाद टैक्सी से मैं परीक्षा केंद्र तक पहुंचा. 
bihar boy travel 700 kms misses neet by 10 minuts late
Source: kashmirglacier

आपको बता दें, कोरोनावायरस महामारी के चलते स्वास्थ्य जांच की वजह से समय में परिवर्तन किया गया है. इसलिए अभ्यर्थियों को अब कम से कम तीन घंटे पहले परीक्षा केंद्र में रिपोर्ट करना था. स्कूल अधिकारियों से संपर्क नहीं किया जा सका लेकिन NEET परीक्षार्थियों को होने वाली असुविधा राजनीतिक बहस का विषय बन गई है, क्योंकि कई अभ्यर्थियों को परीक्षा के लिए किराए की कारों से एक बड़ी क़ीमत चुकाकर आना पड़ा था.

bihar boy travel 700 kms misses neet by 10 minuts late
Source: indiatv

पश्चिम बंगाल बीजेपी प्रेदश अध्यक्ष दिलीप घोष ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा,

इस सरकार में छात्रों को पश्चिम बंगाल में JEE परीक्षा के दौरान भी बहुत परेशानी हुई थी, जबकि सुप्रीम कोर्ट ने NEET पर दायर याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान कहा था कि छात्रों को यात्रा करने और ठहरने के लिए सरकार द्वारा मदद मिलनी चाहिए.
bihar boy travel 700 kms misses neet by 10 minuts late
Source: timesofindia

हालांकि, राज्य सरकार ने भी NEET परीक्षा के दौरान छात्रों को होने वाली परेशानी से इनकार नहीं किया है. राज्य की शिक्षा मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि छात्रों को होने वाली असुविधा को रोकने के लिए सीएम ममता बनर्जी ने शनिवार को होने वाले राष्ट्रव्यापी बंद को रद्द कर दिया था.

News पढ़ने के लिए ScoopWhoop हिंदी पर क्लिक करें.