घर में शादी का माहौल हो तो वो ख़ुशी और वो पल देखने लायक होता है. सब अपने-अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश में लगे रहते हैं. ऐसा ही कुछ कानपुर के बाकरगंज में रहने वाले ख़ान परिवार में हो रहा था. उनकी बेटी की शादी थी और सब तैयारियों में जुटे थे. मगर 21 दिसंबर को बारात वाले दिन कानपुर में भी नागरिकता क़ानून को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया और सबकी ख़ुशी फीकी पड़ गई.

Kanpur

ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि ज़ीनत की बारात प्रतापगढ़ से आनी थी और कानपुर में इस तरह के माहौल के बाद बारातियों ने बारात लाने में असमर्थता ज़ाहिर की. दूल्हे ने फ़ोन कर लड़की वालों से कहा, प्रदर्शन के हालातों के बीच बारात लेकर पहुंचना आसान नहीं है, जिससे सभी लोग परेशान हैं और ज़ीनत के घरवाले भी उनकी बात सुनकर और हालातों को देखकर परेशान हो गए. शादी को कुछ दिनों के लिए टालने की बात कही जाने लगी.

Kanpur
Source: indiablooms

जैसे ही ये बात ज़ीनत के पड़ोसियों को पता चली उनके पड़ोसी विमल चपड़िया अपने साथी सोमनाथ तिवारी और नीरज तिवारी के साथ ख़ान परिवार से मिलने पहुंचे और उन्हें आश्वासन दिया कि बारात लेकर आइए कुछ नहीं होगा.

इसके बाद प्रतापगढ़ से शाम को क़रीब 70 बाराती कार और बस से बाकरगंज आए उनके स्वागत के लिए लगभग 50 हिंदू बारात को शादी की जगह पर पहुंचाने के लिए खड़े थे. पड़ोसियों के साथ और साहस की वजह से ज़ीनत की शादी हुसनैन फ़ारूक़ी से हो गई थी.

Kanpur
Source: justdial

बुधवार को ज़ीनत जब ससुराल से मायके आई तो सबको देखकर ख़ुश हो गई. सबसे पहले विमल के घर गई और उन्हें भाई बोलते हुए आशीर्वाद लिया. विमल ने कहा,

ज़ीनत मेरी छोटी बहन के जैसी है. मैं उसका दिल कैसे टूटने दे सकता था. हम पड़ोसी हैं और हम सभी को एक-दूसरे के सुख-दुख में काम आना चाहिए.
Source: indiatoday

उसने अपनी शादी का श्रेय अपने पड़ोसी विमल को देते हुए कहा,

इस तनाव भरे माहौल के चलते मैं और मेरा पूरा परिवार काफ़ी दिनों से परेशान था. कुछ दिन पहले ही लड़के वालों ने मेरे चाचा के पास फ़ोन कर बारात न ला पाने की बात कही तो मुझे लगा कि अब मेरी शादी नहीं हो पाएगी, लेकिन विमल भाई और उनके दोस्तों के साथ ने असंभव को संभव कर दिया.

आपको बता दें, ज़ीनत के पिता नहीं हैं, जब ज़ीनत 14 साल की थी तभी वो दुपनिया को अलविदा कह उससे दूर चले गए थे.

News से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.