पंजाब पुलिस के TikTok वीडियो की वजह से ही एक शख़्स 2 साल बाद अपने परिवार वालों से मिल पाया. 2018 में वेंकटेश्वरलू तेलंगाना से काम की तलाश में बाहर निकले थे. पर इसके बाद वो अपने घर नहीं लौटे. वहीं हाल ही में TikTok पर पंजाब पुलिस का एक वीडियो शेयर हुआ. वीडियो में पुलिस एक शख़्स को खाना दे रही थी. ये शख़्स कोई और नहीं, बल्कि वेंकटेश्वरलू थे. वेंकटेश्वरलू बोल या नहीं सुन नहीं सकते हैं.

Tiktok
Source: indiatimes

वेंकटेश्वरलू के बेटे पेद्दिराजूके के दोस्त की नज़र इस वीडियो पर पड़ी और उसने उन्हें पहचान लिया. इसके बाद उसने ये बात अपने दोस्त को बताई और तुरंत स्थानीय प्रशासन से जानकारी हासिल करने की कोशिश की. दरअसल, पंजाब पुलिस के कॉन्स्टेबल अजायब सिंह अकसर ही लोगों को खाना वितरित करने वाले TikTok वीडियो बनाते और शेयर करते रहते हैं. उनके इन्हीं चंद वीडियो में से एक वेंकटेश्वरलू वाला भी था. वीडियो में वेंकटेश्वरलू की हालत काफ़ी ख़राब लग रही है और वो पुसिल को इशारे से बताते हैं कि वो बोल या सुन नहीं सकते.

वेंकटेश्वरलू के बेटे पेद्दिराजू का कहना है कि ऐसा पहली बार है जब उनके पिता इतने वक़्त उनसे दूर रहे. वो दो सालों से केवल रोटियों पर ज़िंदगी गुज़ार थे, जिसके वो बिल्कुल आदी नहीं हैं. बीबीसी को दिये इंटरव्यू में पेद्दिराजू ने बताया कि 'मेरे पिता ट्रक में सो गए थे और ड्राइवर को पता नहीं था कि वो ट्रक में हैं. कई किलोमीटर बाद उसे एहसास हुआ कि मेरे पिता ट्रक में थे. इसके बाद उसने बीच रास्ते में ही उन्हें उतार दिया.' दो साल परिवार ने उन्हें काफ़ी खोजा, पर वो कहीं मिले.

man
Source: storypick

शुरुआत में पुलिस ने लॉकडाउन ख़त्म होने तक वेंकटेश्वरलू के परिवार को इंतज़ार करने के लिये कहा. पर बेटे की भावनाओं को समझते हुए पुलिस ने उन्हें ले जाने की परमिशन दे दी. फिलहाल वेंकटेश्वरलू घर सुरक्षित पहुंच चुके हैं. पेद्दिराजू का कहना है कि अब सबसे पहले वो अपने पिता को गर्मा-गर्म चावल खिलाएंगे.

पंजाब पुलिस तुस्सी ग्रेट हो जनाब!

News के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.