कोरोनाकाल में बहुत से लोगों ने अपना बड़ा दिल दिखाते हुए ज़रूरतमंदों की मदद की. इस लिस्ट में वो लोग भी शामिल हैं, जिनके पास कमाई का ख़ास साधन नहीं था. ऐसे ही दानवीर लोगों में अब मदुरै की सड़कों पर घूमने वाला भिखारी भी शामिल हो चुका है.

रिपोर्ट के अनुसार, भीख मांग कर अपना पेट भरने वाले पूलपांडियन नामक भिखारी ने कोविड-19 राहत कोष में 90 हज़ार रुपये का दान किया है. यही नहीं, मई के महीने में भी पूलपांडियन ने लगभग 10 हज़ार रुपये दान किये थे. पूलपांडियन के इस काम की हर ओर काफ़ी प्रशंसा हो रही है. ज़िला कलेक्टर टी. जी. विनय ने उनके इस क़दम की सराहना करते हुए उन्हें सम्मानित भी किया है.

पूलपांडियन का कहना है कि उन्होंने ये पैसे बच्चों की शिक्षा के लिये जोड़े थे, पर कोरोनाकाल में उन्होंने ये पैसे कोविड-19 राहत कोष में दान कर दिये. पूलपांडियन ने ज़िला कलेक्टर द्वारा दी गई सामाजिक कार्यकर्ता की उपाधि पर भी ख़ुशी जताई है.

सच में सड़कों पर भीख मांग कर गुज़ारा करने वाले भिखारी की दरियादिली देख कर मन ख़ुश हो गया.

News के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.