Unmarried Couple Rights In India: जब दो लोग प्यार (Love) में होते हैं, तो वो पूरी दुनिया को ये बात चीख़-चीख़ कर बता देना चाहते हैं. मैसेज पर घंटो चैटिंग, रात की लंबी फ़ोन कॉल्स और अपने पार्टनर से मिलने की तड़प. जी हां, ये सारे लक्षण अगर ख़ुद में दिखाई दें, तो समझ जाओ तुम्हें प्यार हो गया है गुरु. हालांकि, ऐसा लगता है कि दो प्रेमियों के प्यार में ख़लल डालने का काम समाज की आंटियों और अंकलों ने ले रखा है. बची-कुची कसर पुलिसवाले पूरी कर देते हैं. अपने पार्टनर के साथ जाते समय ऐसे घूर-घूर कर देखते हैं जैसे कोई गुनाह कर दिया हो.

हालांकि, भारत के संविधान में स्नेह का सार्वजनिक प्रदर्शन करना निषेध है. लेकिन इसके अलावा कपल के लिए ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जो गैर-क़ानूनी नहीं हैं, इसके बावजूद गैर शादीशुदा कपल को उनको करने के लिए प्रताड़ित किया जाता है.

couple
Source: weddingwire

तो आइए ऐसी 6 चीज़ें बता देते हैं, जिनको करने पर समाज के तथाकथित ठेकेदार हाथ धो कर एक कपल के पीछे पड़ जाते हैं. साथ ही हम आपको उससे जुड़े क़ानून के बारे में भी बताएंगे.

Unmarried Couple Rights In India

1. लिव-इन रिलेशनशिप में रहना

लिव-इन रिलेशनशिप का नाम सुनते ही समाज तो क्या आपके घर में ही पेरेंट्स आग-बबूला हो जाते हैं. हालांकि, आज के समय में थोड़ा चेंज आया है. लेकिन समाज के आधे से ज़्यादा लोग आज भी लिव-इन रिलेशनशिप को एक अपराध से कम नहीं मानते. कुछ पुलिसवाले तो क़ानून की दुहाई देने लगते हैं. मगर आपको ये जानना ज़रूरी है कि हमारे संविधान के मुताबिक़ बिना शादी किए एक कपल का एक साथ रहना बिल्कुल भी गैर-क़ानूनी नहीं है. बस आपको एक घर को किराए पर लेते वक़्त दोनों व्यक्ति के नाम पर एक रेंट अग्रीमेंट बनवाना पड़ता है. 

live in relationship
Source: myadvo

ये भी पढ़ें: ये 10 Creator कपल इतने प्यारे हैं कि सख़्त से सख़्त लोग भी प्यार में दिल हार जाएंगे

2. पर्सनल स्पेस में सेक्सुअल एक्टिविटी

वो वक़्त कब आएगा जब हमारे देश की पूरी आबादी 'सेक्स' टर्म को टैबू मानना बंद करेगी? आज भी समाज में इसे नीची निगाहों से देखा जाता है. ख़ासकर जब उन्हें दो गैर शादीशुदा व्यक्तियों के बीच सेक्सुअल एक्टिविटी की भनक लग जाए, तब लोग उसे राई का पहाड़ बनाने में ज़रा भी बाज़ नहीं आते. जबकि हमारे संविधान का अनुच्छेद 21 साफ़-साफ़ ये बात कहता है कि निजी स्थानों पर सहमति से संभोग करने के लिए अविवाहित जोड़ों को परेशान नहीं किया जा सकता है.

couple personal space
Source: smh

3. एक ही होटल रूम में चेक-इन करना

कभी ऐसा एक्सपीरियंस किया है कि छोटे-मोटे होटल रूम में चेक-इन करते वक्त आपको आसपास के लोग कितनी जजमेंटल भरी निगाहों से देख़ते हैं. कभी-कभी तो होटल स्टाफ़ के फ़ेस एक्सप्रेशंस से समझ में आ जाता है कि अंदर ही अंदर वो आपके कैरेक्टर पर एक सवालिया निशान खड़ा कर रहा है. हालांकि, 'Oyo Rooms', 'Make My Trip' और तमाम ऐसी होटल सर्विसेज़ कपल स्टे को बढ़ावा देती हैं. लेकिन काफ़ी लोगों की सोच में अभी भी अपडेट आना बाकी है. जानकारी के लिए जान लो कि हमारे संविधान में ऐसा कोई भी कानून नहीं है, जो अविवाहित जोड़े के एक साथ होटल में रुकने पर प्रतिबंध लगाता हो. (Unmarried Couple Rights In India)

couple hotel
Source: architecturaldigest

4. विपरीत जेंडर के साथ पब्लिक प्लेस पर बैठना

किसी अपोजिट जेंडर के साथ पब्लिक प्लेस पर बैठा देख़ कर समाज ऐसा मुंह सिकोड़ लेता है कि पूछो मत. अगर कोई लड़की अपने कई सारे मेल फ्रेंड्स के साथ पब्लिकली हैंगआउट या चिल कर रही है, तो भी उस पर मन ही मन सवालों की बौछार की जाती है. कभी-कभी तो भाई या बहन के साथ चलने पर भी लोग उन्हें बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड समझ लेते हैं. फिर कपल का क्या हाल होता होगा ये शायद आप समझ ही गए होंगे. पहले तो वैलेंटाइन पर कुछ दल के लोग कपल को प्रताड़ित भी करते थे. हालांकि, क़ानून को हाथ में लेकर चलने वाले लोग शायद ये नहीं जानते कि इसको निषेध करता कोई क़ानून नहीं है. (Unmarried Couple Rights In India)

couple public place
Source: bonobology

5. किसी प्रॉपर्टी को साथ में ख़रीदना

कोई घर, गाड़ी, बैंक अकाउंट कुछ भी साथ में बनवा लो, समाज को इसकी भनक लगने पर कपल की शामत आनी पक्की है. साथ ही लोगों के फ़ालतू सवालों का जवाब भी देना पड़ेगा, जिसका जवाब उनके पल्ले न पड़ने की पूरी गारंटी है. अब ऐसा कोई सवाल करे, तो उन पर बैकफ़ायर करके ये ज़रूर पूछ लेना कि ऐसा न करना कौन से क़ानून में लिखा है.

couple purchasing property
Source: marriage

ये भी पढ़ें: ये हैं वो 7 बॉलीवुड कपल, जो तलाक के बाद भी अपने बच्चों की खुशियों के लिए कभी अलग नहीं हुए

6. लिव-इन रिलेशनशिप के दौरान जन्मा हुआ बच्चा

जब लिव-इन पार्टनर्स को ही इतनी गंदी नज़र से देखा जाता है, तो उनके बच्चे के बारे में सोचो क्या-क्या मनगकढ़ंत कहानियां बुनी जाती होंगी. इसके साथ ही उनको 'नाजायज़ औलाद' का टर्म दे दिया जाता है. आपको बता दें कि साक्ष्य अधिनियम की धारा 114 के मुताबिक, अगर एक आदमी और औरत बिना शादी के एक ही छत के नीचे सालों से रह रहे हैं, तो ऐसा मान लिया जाएगा कि वो बतौर पति-पत्नी साथ में रह रहे हैं और उनसे जन्मा हुआ बच्चा नाज़ायज़ नहीं कहलाएगा. (Unmarried Couple Rights In India)

live in relationship child
Source: yourpoliceguide

प्यार एक एहसास है कोई अपराध नहीं.