देश से दूर रहकर देश की सेवा कैसे की जाती है? ये कोई सेलिब्रिटी शेफ़ विकास खन्ना से सीखे. कोरोना वायरस की महामारी के बीच न्यूयॉर्क में रहते हुए वो 75 भारतीय शहरों में 2.5 मिलियन Meals दान कर चुके हैं. 

मदद का ये सिलसिला कैसे शुरू हुआ इस बारे में उन्होंने TOI से बात करते हुए कहा, 'मैं उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के एक घर में आया हुआ था. इनके पास राशन नहीं था. मैंने उन लोगों से वादा किया कि इफ़तार से पहले उन्हें भोजन उलब्ध करा दूंगा. पर मैं ऐसे करने में असफ़ल रहा. इसके बाद किसी ने फ़ोन पर मुझे एक फ़ोटो के साथ कॉन्टेक्ट किया और कहा कि एक वृद्धाश्रम को पैसों की ज़रूरत है. मैंने पैसे भेज दिये, पर बाद में पता चला कि मेरे साथ धोख़ा हुआ है.' 

इस किस्से ने विकास खन्ना को जागरूक कर दिया. इसके बाद उन्होंने ख़ुद ज़रूरतमंदों की ज़िम्मेदारी उठाई. विकास खन्ना ने इस काम के लिये NGO और कुछ लोगों से संपर्क बनाया. विकास खन्ना की ये कोशिश कामयाब रही है. वो देश के गांवों तक भोजन और राशन पहुंचाने में कामयाब रहे. विकास खन्ना कहते हैं कि वो व्यक्तिगत रूप से सामान ले रहें हैं. इसके साथ ही National Disaster Response Force की सहायता से शहरों और दूर के क्षेत्रों तक भोजन पहुंचाया जा रहा है. 

US में बिगड़ते हालातों के बावजूद विकास खन्ना ख़ुद को पॉजिटिव बनाये हुए हैं. उन्होंने इस महामारी में अपने 100 दोस्तों को खो दिया, जिसमें उनकी आंटी और अमेरिका में उनका पहला Contact था. इसके साथ ही उन्होंने कुछ समय पहले दीनानाथ मंगेशकर हॉस्पिटल को 1000 PPI किट दान में दिये थे. ये अस्पताल लता मंगेशकर के दिवंगत पिता की याद में बना था, जिसके लिये लताजी ने उन्हें शुक्रिया भी अदा किया था. 

शुक्रिया विकास खन्ना आपके कारण कई अनाथालय और वृद्धाश्रम के लोगों का पेट भर पा रहा है. विपदा की इस घड़ी में देशवासी आपका ये सहयोग हमेशा याद रखेंगे. 

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScooWhoop Hindi पर क्लिक करें.