एक तरफ़ जहां देश में कुछ लोग घर पर रह कर कोरोना को मात देने की कोशिश कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर ऐसे भी लोग हैं जो सभी की कोशिशों को नाकाम करने में लगे हैं. ताज़ा मामला बंगाल से सामने आया है. 

theprint

रिपोर्ट के अनुसार, बंगाल में कुछ ग्रामीणों ने सामाजिक दूरी यानि सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लघंन करते हुए बुधवार रात पुलिस पर हमला बोल दिया. बुधवार रात 16 से अधिक रोगी Covid-19 पॉज़िटिव पाये गये, इसके बावजूद वहां राम नवमी को सेलिब्रेट किया गया. इसके साथ ही बाज़ारों में भीड़ देखी गई. 

socialnews

मुख़्यमंत्री ममता बनर्जी के आग्रह के बाद भी लोगों ने उनकी एक नहीं सुनी. राम नवमी के अवसर पर बंगाल के कुछ मंदिर खुले रहे. इसके साथ ही पुरुलिया, बांकुड़ा और कूचबिहार ज़िलों में ग्राम मेलों का आयोजन भी किया गया. यही नहीं, दक्षिण 24 परगना के धर्मतला गांव में कुछ युवक सड़क किनारे शराब पीते पाये गये. जिसके बाद युवकों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया. साथ ही पुलिस वैन को भी क्षतिग्रस्त किया. 

ज़िले एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि हमले में 5 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. इसके साथ ही 7 ग्रामीणों को भी गिरफ़्तार किया गया है. ख़बर के अनुसार, ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों पर बहुत ज़्यादा सख़्ती बरतने का आरोप लगाया है. वहीं ये भी कहा जा रहा है कि पुलिसकर्मियों ने उत्तर 24 परगना ज़िले में कुछ ग्रामीणों को जुआ खेलते हुए पकड़ा था. 

ndtv

पुलिस सख़्ती न करे, तो लोग अपनी मनमानी करते हैं और सख़्ती करे, तो पत्थरबाज़ी. आखिर करें भी क्या करें? हम बच्चे नहीं हैं, जो हर बात मार-पीट के साथ समझ आये. इस समय दूरी बनाये रखना ही बेहतर है. वरना आपकी नादानी की क़ीमत कई लोगों को चुकानी पड़ेगी. 

घर पर रहें, सुरक्षित रहें. 

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.