10 साल हो गए दिल्ली आए. घर से मास कम्यूनिकेशन का कोर्स करने निकली थी. जब कॉलेज कर रही थी, उस टाइम ख़ूब घर जाती थी. धीरे-धीरे ज़िंदगी की आपाधापी में ऐसा फंसी कि घर धीरे-धीरे कब दूर हो गया पता ही नहीं चला.

Lonely
Source: wordpress

फिर उस बीच करियर और जॉब में परेशान रही. हालांकि, मम्मी-पापा को फ़ोन रोज़ करती हूं, तब भी करती थी. मगर कॉलेज और ऑफ़िस में एक बड़ा फ़र्क़ ये है कि उन दिनों कॉलेज और दोस्तों के बीच कई दिन मम्मी-पापा से बात नहीं होती थी तो भी पता नहीं चलता था. आज हर दूसरे पल लगता है कि मम्मी-पापा से कब से बात नहीं हुई है.

Friends.
Source: deccanchronicle

तब शायद दोस्त आस-पास होते थे. अब टेंशन होती है. मेरी एक दोस्त दिल्ली में अपने माता-पिता के साथ ही रहती है. एक दिन यूं-ही मैंने उससे पूछा कि यार तू जब परेशान होती है तो क्या करती है?

उसके जवाब ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया. उसने मुझसे कहा,

'मैं अपने पापा को गले लगाती हूं. कुछ देर उनके साथ बैठकर बात करती हूं और सब ठीक हो जाता है.'
Hug each Other.
Source: dailyhunt

उसके जवाब ने मेरी टेंशन तो दूर नहीं की, उल्टा मुझे सोचने के लिए एक विषय दे दिया कि यार... वो पापा को गले लगाती है!

ठीक उसी समय मैंने सोचा कि मेरे पापा और मैंने तो कभी एक दूसरे को गले नहीं लगाया. कभी हमने एकसाथ बैठकर बात नहीं की. क्योंकि हमारे घर में शुरू से ही पापा से एक दूरी बनाकर रखी गई है. मतलब मम्मी हमेशा बोलती थीं, पढ़ो नहीं तो पापा आ जाएंगे, पापा से शिकायत कर दूंगी, समझे? तो वो एक पापा को देखकर गब्बर टाइप वाली इमेज मेन्टेन हो गई थी. जिसे शायद पापा भी मेन्टेन कर रहे हैं और वो भी बाक़ी पिताओं की तरह भावनाओं को ज़ाहिर करने, रोने और मुझे गले लगाने में संकोच करते हैं.

Scared Girl.
Source: jewishcommunitywatch

ये पीढ़ी दर पीढ़ी जो समाज में चला आ रहा है न कि आदमी रोते नहीं, भावुक नहीं होते. शायद इसी मानसिकता ने मेरे और पापा के बीच ये दूरी कर दी. जिसकी वजह से कभी उनके मन में ये बात ही नहीं आई कि मुझे भी गले लगा लें. उस सोच ने एक पिता को भी एक 'सख़्त इंसान' और मुझे बेटी से एक लड़की बना दिया, जिसके गले मिलना उनके लिए एक नामुमकिन सी बात हो गई.

 lonely girl
Source: flickr

समाज की इस सोच की वजह से मुझे मेरे पापा के अंदर छुपा वो दोस्त नहीं मिल पाया, जिससे मैं सारी बातें कर सकती थी. जिसके गले लगकर मैं अपनी टेंशन दूर कर लेती. इस सोच ने मेरे पापा से भी एक दोस्त छीन लिया.

मैं आपसे पूछती हूं ऐसी सोच किस काम की जो रिश्तों में दूरियां ला दे. जिसकी वजह से मैं अपने पापा से गले नहीं लग पाई.

Father. Daughter.
Source: pixabay

इस सोच को बदलना बहुत ज़रूरी है ताकि फिर किसी को अपने पापा से दिल की बात कहने के लिए ओपन लेटर का सहारा न लेना पड़े. और मेरी दोस्त और उसके पिता की तरह सारे पिता और बेटियां कुछ कहने के लिए गले मिल सकें.


Love You Papa!