सांड की आंख का टीज़र आज ही रिलीज़ हुआ है. फ़िल्म की कहानी दो बुज़ुर्ग शूटर दादियों की ज़िन्दगी पर बेस्ड है.

Source: Reliance Entertainment
Source: Reliance Entertainment

फ़िल्म का बैकग्राउंड उत्तर प्रदेश का है. टीज़र भी ज़ोरदार बना है और ज़ाहिर है कि फ़िल्म से उम्मीदें भी हैं. अनुराग कश्यप फ़िल्म के क्रिएटिव प्रोड्यूसर हैं. फ़िल्म में शूटर दादियों (चंद्रो और प्रकाशी तोमर) के रोल भूमि पेडनेकर और तापसी पन्नू निभा रही हैं. एक दर्शक के तौर पर आपको फ़िल्म, किरदार, उसकी कहानी में कोई कमी नहीं दिखती. बस एक बात दिल खट्टा कर देती है.

Source: Reliance Entertainment

फ़िल्म में कहानी दो बुज़ुर्ग शूटर दादियों की है, तो इसके लिए दो यंग एक्ट्रेस को बूढ़ा दिखाने के बजाय, किसी बड़ी उम्र की एक्ट्रेस को नहीं लिया गया?

Source: India Today

इस बात में कोई शक़ नहीं कि तापसी और भूमि अच्छी एक्टर हैं. उनकी एक्टिंग में कोई कमी आपको शायद फ़िल्म में दिखेगी भी नहीं लेकिन इतने अच्छे कॉन्सेप्ट के लिए आप आसानी से कोई दूसरा सीनियर कलाकार चूज़ कर सकते थे. ऐसा भी नहीं है कि हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐसे कलाकारों की कमी हो.


Source: open the magazine

हमने 'बधाई हो' में सुरेखा सीकरी और नीना गुप्ता को जानदार Performance देते हुए देखा है. हमने शबाना आज़मी को ऐसे रोल्स करते देखा है, हमने तबु को सालों से ख़ुद को तराशते हुए देखा है. सीमा बिस्वास, रत्ना पाठक शाह को देखा है. 'न आना इस देस लाडो' में अपने किरदार में जान डालने वाली मेघना मलिक को कैसे भूल सकते हैं हम?


इतने अच्छे और बेहतरीन कलाकारों के होते हुए फ़िल्म में दो युवा चेहरों को बूढ़ा दिखाना मुझे बेईमानी सी लगी.

Source: Twimg

आप ये तर्क दे सकते हैं कि फ़िल्म के कुछ हिस्सों में जब इन महिलाओं के जवानी के दिन शूट किये गए होंगे, तो ये दोनों एक्ट्रेस उस लिहाज़ से बेहतर होंगी. आपकी बात एक हद तक सही है लेकिन इसके लिए आप इन दोनों के केवल 'जवानी' वाले सीन शूट कर सकते हैं. जब किसी फ़िल्म के कॉन्टेंट पर इतनी मेहनत की जाए, उसके एक-एक एक्टर को चुना जाए और उसमें ऐसी एक Opportunity को छोड़ दिया जाए, तो बुरा लगता है.

Source: Social Samosa

कुछ ऐसा ही मैरी कॉम की बायोपिक के साथ भी हुआ था. फ़िल्म अच्छी थी, प्रियंका की मेहनत भी दिखी लेकिन ये रोल नॉर्थ ईस्ट की किसी एक्ट्रेस को दिया जा सकता था.

'सांड की आंख ' इस साल तक आ जाएगी. यकीन है फ़िल्म चल भी जाएगी और सभी की एक्टिंग पसंद की जाएगी. लेकिन फ़िल्म देखते हुए मन में हमेशा के लिए एक मलाल रह जाएगा कि हम किसी सीनियर एक्ट्रेस को लेकर एक स्टेटमेंट दे सकते थे. हिंदी सिनेमा में कुछ अच्छे बदलाव आ रहे हैं, ये भी एक Welcome Change होता.