लाइफ़ के हर पड़ाव पर सफलता के मायने बदलते रहते हैं. अब अपने 10वीं क्लास के दौर को ही याद कीजिए, ऐसा लगता था कि बस ये निकल जाए, तो दुनिया फ़तह. अब आज सोचते हैं तो ख़ुद को परम मूर्ख सा फ़ील करते हैं. 

Kerala
Source: indiatimes

ये भी पढ़ें: अगर आप 90s Kid हैं तो फिर स्कूल में मिलने वाली इन 9 सज़ाओं से भरपूर रिलेट कर पाएंगे

Student Installs Flex Board After Passing Class 10th Exams

मगर आज की होशियारी और कल की मासूमियत में फ़र्क होता है न. तो बस केरल के इस स्टूडेंट को भी आप उसी मासूमियत से देखें. ये लड़का 10वीं क्या पास हुआ, एकदम ख़ुशी में झूम उठा. इतना गदगद हो गया कि ख़ुद को बधाई देने के लिए बाकायदा 'फ़्लेक्स बोर्ड' लगवा डाला. 

पठानमथिट्टा के जिष्णु ने ये कारनामा इसलिए किया ताकि पूरा मोहल्ला जान जाए कि छोरा 10वीं में गदर काट दीहिस है. इस फ़्लेक्स बोर्ड में जिष्णु एकदम चश्मा-वश्मा लगाए भौकाल से बैठा है. इसका कैप्शन कम भौकाली नहीं है. 

10वीं पास इस होनहार ने फ़्लेक्स बोर्ड पर कैप्शन में लिखा, 'इतिहास कुछ लोगों के लिए रास्ता बनाता है. मैं 2022 एसएसएलसी परीक्षा (SSLC Examination) में उत्तीर्ण होने के लिए ख़ुद को बधाई देता हूं. कहानी अब शुरू होती है. कुंजाक्कू वर्ज़न 3.0.'

शिक्षा मंंत्री ने भी सराहा

V Sivankutty
Source: mathrubhumi

अब भइया जिष्णु इस फ़्लेक्स बोर्ड को लगवाए तो थे मोहल्ले और दोस्तों को बताने के लिए मगर पहुंच गया ये सोशल मीडिया से लेकर केरल के शिक्षा मंत्री तक. शिक्षा मंत्री वी शिवांकुट्टी ने फ़ेसबुक पर लिखा, 'कुंजक्कू ने फ्लेक्स में ख़ुद कहा है कि इतिहास कुछ लोगों के लिए रास्ता बनाता है. मेरी इच्छा है कि ऐसा हो. कुंजक्कू को जीवन की परीक्षा में भी बड़ी सफलता मिले.'

Student Installs Flex Board After Passing Class 10th Exams

आख़िर जिष्णु क्यों सबको अपनी उपलब्धि बताना चाह रहा था?

ये बात तो ठीक है कि जिष्ण मोहल्ले वालों को अपनी इस सफलता को बताना चाह रहा था, मगर क्यों? दरअसल, जिष्णु का 10वीं पास करना चमत्कार से कम नहीं है. ऐसा नहीं है कि वो पढ़ने में बेकार है. बस उसके पास इतना पैसा नहीं था कि वो एग्ज़ाम के लिए ज़रूरी किताबें ख़रीद सके या कोचिंग कर ले. फ्लेक्स बोर्ड लगाने में भी उसके दोस्तों ने मदद की थी.

रिपोर्ट के मुताबिक,जिष्णु के माता-पिता दिहाड़ी मज़दूर हैं और परीक्षा से एक सप्ताह पहले तक उनके घर में बिजली नहीं थी. जिष्णु और उसकी बहन को मिट्टी के तेल के दिये में पढ़ते थे. वो और उसकी बहन बस से 14 किमी दूर स्कूल जाते थे. 

School
Source: indiatimes

Student Installs Flex Board After Passing Class 10th Exams

जिष्णु ने कहा कि उसका मज़ाक उड़ाया जाता था कि वो 10वीं कभी पास नहीं कर पाएगा. ये बातें उसको बहुत चुभती थीं. ऐसे में जब 10वीं पास हुआ तो फ़्लेक्स बोर्ड लगवाकर वो उन्हीं लोगों की चुटकी लेना चाह रहा था. वो बताना चाह रहा था कि उसने सबको ग़लत साबित कर दिया है. 

वाह रे बेटा! सही खेल गए. अब मस्त पढ़ो और ज़िंदगी में ज़बरदस्त आगे बढ़ो.