'सिकंदर' मकदूनिया का शासक था, जिसे 'अलेक्ज़ेंडर द ग्रेट' के नाम से भी जाना जाता है. ये दुनिया में एकमात्र ऐसा इंसान हुआ जिसने विश्व को जीतने का सपना देखा और इसके लिए इसने अभियान भी चलाया. 'सिकंदर' के बारे में कहा जाता है कि उसने अपनी मृत्यु तक उन सभी ज़मीनों पर विजयी पताका फहराया दिया था, जिसकी जानकारी प्राचीन ग्रीक लोगों को थी. लेकिन, सवाल यह उठता है कि क्या सिकंदर सच में विश्व विजेता था? आइये, इस ख़ास लेख में हम आपको सिकंदर से जुड़ी उन सच्चाइयों के बारे में बताते हैं, जो ये साबित करती हैं कि वो कोई महान इंसान नहीं था और न ही कोई विश्व विजेता.   

1. भाइयों का क़ातिल  

Alexander
Source: shenyunperformingarts

सिकंदर के पिता का नाम फ़िलिप था, जो मकदूनिया का सम्राट था. कहा जाता है कि फ़िलिप की हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद सिकंदर अपने चचेरे और सौतेले भाइयों का क़त्ल कर मकदूनिया का राजा बना.   

2. अरस्तु थे सिकंदर के पीछे   

arastu
Source: wikipedia

यह शायद बहुत कम लोगों को पता होगा कि सिकंदर के गुरु अरस्तु थे. इन्होंने ही सिकंदर को विश्व विजय का सपना दिखाया था. अरस्तू एक महान दार्शनिक थे, जिनके विचारों का महत्व आज भी बना हुआ है. कहते हैं कि सिकंदर को निखारने का काम अरस्तू ने ही किया था. वहीं, कुछ इतिहासकार यह भी मानते हैं कि अगर सिकंदर के जीवन में अरस्तू न आते, तो उनकी उपलब्धि भी हासिल न कर पाता, जिसका दावा किया जाता है.   

3. ख़ुद ही कहलवाया विश्व विजेता   

alexander
Source: military-history

कहते हैं कि फ़ारसी साम्राज्य के राजा को सिकंदर ने तीन बार हराया था और साम्राज्य को अपने क़ब्ज़ा में ले लिया था. इस काम में उसे 10 साल का वक़्त लग गया था. कहते हैं कि अपनी जीत के बाद उसने एक बड़ा जुलूस निकलवाया और ख़ुद को विश्व विजेता घोषित कर दिया. 

4. भारी पड़ी चाणक्य की नीति   

chanakaya
Source: isrgrajan

कहते हैं कि जब तक्षशिला के आचार्य विष्णुगुप्त यानी चाणक्य को भारत पर सिकंदर के हमले के बारे में पता चला, तो उन्होंने सभी राजाओं से आग्रह किया कि वो सभी सिकंदर के ख़िलाफ़ एक होकर लड़ें. लेकिन, कोई भी आगे न आया. चाणक्य ने मगध के राजा धनानंद से भी गुहार लगाई, लेकिन उसने चाणाक्य का अपमान किया. इसके बाद चाणक्य ने अपनी कूटनीति की मदद ली और चंद्रगुप्त को सिकंदर के सामने खड़ा कर दिया. सिकंदर की सेना आगे न बढ़ पाई और उनके मंसूबों पर पानी फिर गया.   

5. सिकंदर और पोरस का युद्ध  

sikander and porus
Source: hindihaat

सिकंदर और पोरस के बीच हुए युद्ध को दुनिया के चुनिंदा युद्धों में गिना जाता है. माना जाता है कि राजा पोरस या पुरुषोत्तम का राज्य पंजाब की झेलम से लेकर चिनाब नदी तक फैला हुआ था. कहा जाता है जब सिकंदर, राजा पोरस की सीमा में दाख़िल हुआ, तो उन्होंने अपनी सेना के साथ सिकंदर का डटकर सामना किया. 

कहा जाता है कि सिकंदर की भारी सेना राजा पोरस के बहादुरी देख घबरा गई थी. वहीं, कहा जाता है कि राजा पोरस ने सिकंदर को इस युद्ध में हरा दिया था. वहीं, कुछ का मानना यह भी है कि सिकंदर ने पोरस को हराया था. हालांकि, यह अब तक एक विवाद का विषय बना हुआ है.  

6. सिकंदर की सेना के हौसले हुए परस्त

sikander and army
Source: quora

कहा जाता है कि पोरस से युद्ध के बाद सिकंदर की सेना के हौसले परस्त हो चुके थे. उसकी सेना इतनी थक चुकी थी कि उनमें आगे बढ़ने की हिम्मत न थी. इस वजह से सिकंदर को अपनी सेना के साथ व्यास नदी से ही वापस लौटना पड़ा.   

7. क्रूर और अत्याचारी   

Alexendra
Source: worldhistory

सिकंदर के बारे में कहा जाता है कि वो काफ़ी क्रूर और अत्याचारी था. कई इतिहासकारों के अनुसार,सिकंदर ने कभी उदार भावना नहीं दिखाई. कहते हैं कि वो छोटी-छोटी ग़लतियों पर अपने सहयोगियों को तड़पा-तड़पा कर मार दिया करता था.   

8. वो ख़ुद देवता बनना चाहता था  

Alexander
Source: history

सिकंदर एक ग्रीक था और ग्रीक लोग कई देवता और मान्यताओं को मानते थे. लेकिन, माना जाता है कि सिकंदर लोगों को सामने ख़ुद को देवता बनना चाहता था. वहीं, ऐसा भी कहा जाता है कि सिकंदर ने अपने सैनिकों और सेनापतियों के सामने ख़ुद को देवता की तरह पेश किया. कई बार सिकंदर के सहयोगी पीठ पीछे सिकंदर का मज़ाक भी बनाते थे.   

9. पीने लगा था शराब   

Alexander
Source: theuijunkie

कहते हैं कि अपने विश्व विजेता के सपने को टूटता देख सिकंदर को शराब की लत लग गई थी. वो दिन-रात शराब में डूबा रहता था और कई बार बीमार भी हुआ. साथ ही वो उदास भी रहने लग गया था.   

10. मलेरिया से हुई मौत  

alexander
Source: factsanddetails

कहते हैं कि जब सिकंदर बेबिलोन पहुंचा, तो 323 ईसा पूर्व में उसकी मौत हो गई थी. माना जाता है कि वो मलेरिया की वजह से मरा था. इन सभी तथ्यों को पढ़ने के बाद सिकंदर को महान या विश्व विजेता कहने का सवाल ही पैदा नहीं होता. आपकी क्या राय है हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं.