Akshaya Tritiya 2021: हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया या आखातीज कहते हैं. अक्षय तृतीया के दिन भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी का जन्म हुआ था. इसलिए इस दिन परशुराम जयंती भी मनाई जाती है. इसे साल के सबसे शुभ दिनों में से एक माना जाता है. इस दिन लोग माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा कर उन्हें ख़ुश करने की कोशिश करते हैं.

इस साल अक्षय तृतीया 14 मई को मनाई जाएगी. अक्षय तृतीया पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 05:38 से दोपहर 12:18 तक है. शास्त्रों के अनुसार अक्षय तृतीया पर सोना ख़रीदने से आने वालों को भविष्य में सुख-समृद्धि और अधिक धन की प्राप्ति होती है. इसलिए लोग इस दिन सोने की ख़रीदारी अधिक करते हैं. 

ये भी पढ़ें: पूजा के पहले गणेश जी को याद करना है ज़रुरी, तो पूजा के बाद शिव के इस मंत्र की है ख़ास महत्ता

अक्षय तृतीया पर क्या करें 

Akshaya Tritiya 2021
Source: inkhabar

1. माता लक्ष्मी को सफ़ाई बहुत पसंद है. इसलिए इस दिन घर की अच्छे से साफ़-सफ़ाई करें. पूजा के लिए 11 कौड़ियां लेकर आएं. लक्ष्मी जी का पूजन कर उन्हें  अपनी तिजोरी में रखें.  

Akshaya Tritiya
Source: inextlive

ये भी पढ़ें: सबसे पहली दुर्गा पूजा की दिलचस्प कहानी, जिसकी जड़ें प्लासी के युद्ध के निकली हैं

2. लक्ष्मी जी को नारियल प्रिय होता है इसलिए पूजा के लिए नारियल ज़रूर लेकर आएं. इससे आपके घर में धन-धान्य की कमी नहीं होगी.

dan karein
Source: hindubulletin

3. अक्षय तृतीया के दिन ज़रूरतमंद लोगों की मदद करें. यथाशक्ति दान दें. पितरों की आत्मा की शांति के लिए भी इस दिन दान करना उचित माना जाता है. दान के लिए किताब, अन्न, चंदन, कपड़े आदि शुभ माने गए हैं. 

akshaya tritiya vidhi
Source: samacharnama

4. आखातीज को केसर और हल्दी से देवी लक्ष्मी जी की पूजा करनी चाहिए. ये दिन शुभ होता है इसलिए किसी भी काम का शुभारंभ किया जा सकता है.

अक्षय तृतीया पर क्या न करें  

Akshaya Tritiya
Source: firstcry

इस दिन कोई भी ग़लत कार्य नहीं करना चाहिए. किसी को अपशब्द न कहें और न ही किसी पर गुस्सा करना चाहिए. नॉनवेज कतई न बनाएं और सात्विक भोजन करें.

सोना-चांदी ख़रीदने का समय

jewellery
Source: dnaindia

अक्षय तृतीया(14 मई 2021)को सुबह 05:38 बजे से लेकर 15 मई 2021 को सुबह 05:30 बजे तक आप सोने-चांदी की ख़रीदारी कर सकते हैं.