भारत में कई वर्ल्ड फ़ेमस मस्जिदें हैं. इनमें से कई तो सदियों पुरानी है जिनकी नक्काशी और वास्तुकला देखते ही ही बनती हैं. ये केवल पवित्र प्रार्थना स्थल ही नहीं हैं इनका ऐतिहासिक महत्व भी है. चलिए आज आपको देश की कुछ प्रसिद्ध मस्जिदों के बारे में बता देते हैं.

ये भी पढ़ें: बंटवारे के समय पंजाब के इस गांव के मुसलमान पाकिस्तान चले गए और सिखों ने उनकी मस्जिद को संभाला

1. हजरतबल मस्जिद

श्रीनगर की ये मस्जिद डल झील के किनारे बनी है. कहते हैं कि 100 साल पहले मक्का से पैगंबर मोहम्मद की दाढ़ी के बाल लाए गए थे, जो इस मस्जिद में लगे हैं.

2. जामा मस्जिद 

दिल्ली की जामा मस्जिद तो दुनियाभर में फ़ेमस है. ये भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है जिसे शाहजहां ने बनवाया था. इसमें एक साथ 25000 लोग नमाज पढ़ सकते हैं.

3. नगीना मस्जिद

ये मस्जिद आगरा के क़िले के अंदर बनी है. इसमें मुग़ल वास्तुकला की झलक दिखाई देती है. यहां से ताजमहल का भी दीदार किया जा सकता है.

4. बड़ा इमामबाड़ा

लखनऊ के वर्ल्ड फ़ेमस बड़ा इमामबाड़ा में एक बहुत ही सुंदर मस्जिद बनी है. इसके पास एक बावड़ी भी है जो बहुत गहरी है. यहां कर्बला में बनी इमाम हुसैन के मकबरे की छोटी प्रतिकृति भी मौजूद है.

5. ताज-उल मस्जिद 

देश की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है भोपाल की ये मस्जिद. इसे शाहजहां बेगम ने बनवाया था. इसकी दीवारें गुलाबी हैं जो किसी क़िले जैसी प्रतीत होती हैं.

6. हाजी अली दरगाह 

मुंबई की ये मस्जिद समुद्र के बीच बनी है. मुस्लिम संत पीर हाजी अली शाह बुखारी का मक़बरा यहीं है. यहां हर गुरुवार को क़व्वाली होती है.

7. मक्का मस्जिद 

हैदराबाद की इस मस्जिद का निर्माण शहर के पहले शासक मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने करवाया था. इसके लिए ईटें मक्का से मंगवाई गई थीं. इसलिए इसका नाम मक्का मस्जिद रखा गया.

8. अजमेर शरीफ़ 

यहां सूफी संत ख़्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती का मक़बरा है. इस मस्जिद को की शासकों ने बनवाया है. मुग़ल बादशाह अकबर भी कई बार यहां जा चुके हैं.

9. Thazhathangady Juma Masjid

केरल की ये मस्जिद लगभग 1000 साल पुरानी है. इसे जामा-आठे के लोगों ने बनाया था. इसे लकड़ी और ईंट से बनाया गया है. ये मीनाचिल नदी के किनारे बनी है. इसकी नक्काशी बहुत शानदार है.

10. अढ़ाई दिन का झोपड़ा 

1192 ईस्वी में बनी ये मस्जिद अजमेर राजस्थान में है. इसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने बनवाया था. कहते हैं इस मस्जिद को बनाने में 60 घंटे यानी ढाई दिन लगे थे, इसलिए इसका नाम अढ़ाई दिन का झोपड़ा रखा गया.

इनमें से कौन-सी मस्जिद की वास्तुकला ने आपका मन मोह लिया?