Most Foolish War in History: विश्व इतिहास में जब भी युद्ध की बात होती है हमें उसके खतरनाक परिणामों से रूबरू होना पड़ता है. मानव इतिहास में अब तक कई तरह के युद्ध लड़े गये हैं. इनमें से कुछ युद्ध अहम मुद्दों को लेकर लड़े गये तो कुछ ऐसे भी थे जिनकी वजहें बेहद ही छोटी थी. आज हम आपको एक ऐसे युद्ध के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी वजह जानकर आप इसे इतिहास का सबसे मूर्खतापूर्ण युद्ध करार देंगे.

ये भी पढ़ें- इतिहास का वो युद्ध जो एक ‘कुत्ते’ की वजह से लड़ा गया था, जानते हो ये किन दो देशों के बीच हुआ था?

indicinfo

दरअसल, ये बात उस समय की है जब लोग पानी के लिए प्राकृतिक जल स्रोत पर निर्भर रहते थे. इस दौरान लोग ज़मीन खोदकर बनाए गये कुओं के पानी पर ही निर्भर रहते थे और बाल्टियों के ज़रिए पानी निकाला करते थे. आज से क़रीब 700 साल पहले इटली में पानी की इसी जद्दोजहद को लेकर एक ‘अनोख़ा युद्ध’ लड़ा गया था. 

indicinfo

दो शहरों के बीच लड़ा गया था ये युद्ध  

ये अनोखा युद्ध सन 1325 में इटली के दो शहरों बोलोग्ना और मोडेना के बीच लड़ा गया था. ख़ास बात ये है कि ये दोनों शहर एक-दूसरे से केवल 50 मीटर की दूरी पर स्थित हैं. एक दिन अचानक ही बोलोग्ना शहर के गेट के पास स्थित कुएं पर रखी एक लकड़ी की बाल्टी गायब हो गई. वैसे तो बात बेहद ही मामूली थी, लेकिन किसी ने ख़बर फ़ैला दी कि बोलोग्ना के इस कुएं की बाल्टी मोडेना के सिपाही उठाकर ले गये हैं.

indicinfo

ये भी पढ़ें- ये हैं भारत के वो ऐतिहासिक युद्ध, जो महिलाओं के सम्मान या उनके प्रेमवश लड़े गए थे

इस दौरान बोलोग्ना और मोडेना शहर के बीच संबंध कुछ ठीक नहीं थे. ऐसे में बोलोग्ना शहर में ये बात आग की तरह फ़ैल गई और बोलोग्ना निवासियों ने इसे अपना अपमान समझा. इस दौरान जब मोडेना प्रशासन से इस संबंध में पूछा गया, तो उन्होंने इस बात से साफ़ इंकार कर दिया कि बाल्टी उनके सिपाहियों ने उठाई है.

indicinfo

बस फिर क्या था, बोलोग्ना वासियों ने बाल्टी को अपनी प्रतिष्ठा मान फ़ैसला लिया कि इस वापस हासिल करने के लिए मोडेना शहर से युद्ध लड़ा जाएगा. इस दौरान बोलोग्ना जनसंख्या ही नहीं, सेना भी मोडेना से काफ़ी बड़ी थी. इसके बाद बोलोग्ना ने अपने 32 हज़ार सिपाहियों के साथ मोडेना शहर पर हमला कर दिया. जब मोडेना को इसका पता चला तो उसने भी अपने 7 हज़ार सैनिकों को लड़ाई के लिए भेज दिया.

indicinfo

इस दौरान मोडेना की सेना ने संख्या बल में कम होने के बावजूद बोलोग्ना की सेना का जमकर मुक़ाबला किया. अंत में हुआ ये कि बोलोग्ना के सिपाहियों को वहां से भागना पड़ा. इस दौरान मोडेना के सिपाहियों ने बोलोग्ना के सिपाहियों का काफ़ी दूर तक पीछा किया. लौटते वक्त उन्होंने बोलोग्ना शहर में मौजूद एक कुएं पर रखी बाल्टी उठा ली और इसे अपनी जीत की ट्रॉफ़ी के रूप में मोडेना ले गए.

इस युद्ध में दोनों शहरों के क़रीब 2000 लोग मारे गये. इतने सालों के बाद भी आज भी ये बाल्टी मोडेना के ‘टाउनहॉल’ में टंगी हुई है.