24 मार्च 2020 को जब देश में लॉकडाउन का एलान किया गया था, तो हर सड़क वीरान हो गई थी. ज़िंदगी लंबा सफ़र तय कर सके, इसलिए उसकी रफ़्तार कम कर दी गई थी. हमारी सांसे चलती रहे, इसलिए गाड़ियों के पहिए रोक दिए गए थे. अब जबकि कोरोना लॉकडाउन को लगे एक साल हो चुके हैं, तो उन्हीं सुनसान सड़कों का नज़ारा एकदम बदल चुका है. 

आइए एक नज़र डालते हैं, मार्च 2020 में जब कोविड-19 लॉकडाउन लगा था और आज मार्च 2021 जब लॉकडाउन को लगे पूरे एक साल बीत गए हैं, इस दौरान कितना बदल चुका है हमारे आसापास का नज़ारा.

1. इंडिया गेट, दिल्ली

Source: outlookindia

2. सरोजनी मार्केट, दिल्ली

Source: outlookindia

3. मुंबई की एक सड़क का नज़ारा

Source: outlookindia

4. पार्क सर्कस, कोलकाता

Source: outlookindia

5. रवींद्र सेतु (हावड़ा ब्रिज), कोलकाता

Source: outlookindia

6. एस्प्लेनेड, कोलकाता

Source: outlookindia

7. बड़ा बाज़ार, कोलकाता

Source: outlookindia

8. गेटवे ऑफ़ इंडिया, मुंबई

9. AIIMS फ़्लाइओवर, दिल्ली

लॉकडाउन भले ही ख़त्म हो चुका है, लेकिन कोरोना वायरस अभी ख़त्म नहीं हुआ है. देश में दोबारा से संक्रमण के मामलों में तेज़ी देखी जा रही है. अब तक भारत में 1.17 करोड़ से ज़्यादा लोग वायरस की चपेट में आ चुके हैं. 1.60 लाख से ज़्यादा लोगों की जान गई है. अभी भी देश में 3.92 लाख से ज़्यादा एक्टिव केस हैं. ऐसे में बिना ज़रूरी काम के बाहर टहलना दूसरों के साथ ख़ुद की ज़िंदगी को भी ख़तरे में डालने जैसा है. 

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में प्रवासी मज़दूरों के साथ हुए ये 7 हादसे, ताउम्र के लिए मन पर गहरे ज़ख़्म छोड़ गए हैं