शहनाज़ हुसैन! आज ब्यूटी एंड कॉस्‍मेटिक प्रोडक्ट्स के फ़ील्ड में शहनाज़ हुसैन (Shahnaz Husain) का नाम ही काफ़ी है. वो अपने हर्बल कॉस्‍मेटिक प्रोडक्ट्स (Herbal Cosmetic Products) के कारण दुनियाभर में मशहूर हैं. आज उनके नाम से ही इन प्रोडक्‍ट्स को हाथों-हाथ ख़रीदा जाता है. शहनाज हुसैन देश की पहली महिला उद्यमी हैं जिनका नाम ही उनका ब्रांड बन गया. लेकिन फ़र्श से अर्श तक पहुंचने की उनकी ये कहानी बेहद प्रेरणादायक है. 

ये भी पढ़ें: मिलिए 96 साल की इस ‘ग्लोबल नानी’ से, जिनकी ‘बर्फी और अचार’ ने उन्हें बना दिया है वर्ल्ड फ़ेमस

शहनाज़ हुसैन (Shahnaz Husain) भारत में ‘शहनाज़ हुसैन ग्रुप’ की फ़ाउंडर, चेयरपर्सन और मैनेजिंग डायरेक्टर हैं. भारत की आयुर्वेदक विरासत को अपने ‘हर्बल ब्यूटी केयर मूवमेंट’ के ज़रिए दुनिया भर में ले जाने का श्रेय शहनाज़ हुसैन को ही जाता है. इसी मूवमेंट ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मशहूर बनाया. साल 2006 में उन्हें व्यापार और उद्योग के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत सरकार द्वारा चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था.

indiakestar

The Shahnaz Husain Group

शहनाज़ हुसैन (Shahnaz Husain) का सफल उद्यमी बनने का सफर कभी आसान नहीं रहा. केवल 14 साल की उम्र में सगाई और 15 साल की उम्र में उनकी शादी हो गयी थी. इस तरह से छोटी उम्र में ही उन पर ज़िम्‍मेदारियों का बोझ पड़ गया था. शहनाज़ हुसैन ने तय कर लिया था कि वो सिर्फ़ घर में पत्‍नी और मां की भूमिका तक सीमित नहीं रहेंगी. इसलिए उन्‍होंने इन सबसे ऊपर उठकर कुछ अलग करने का फ़ैसला किया.

 

starsunfolded

पिता थे इलाहाबाद हाई कोर्ट में चीफ़ जस्टिस

शहनाज़ हुसैन की शुरुआती पढ़ाई प्रयागराज के ‘सेंट मैरीज कॉन्‍वेंट इंटर कॉलेज’ में हुई. उनके पिता जस्टिस नासिर उल्‍ला बेग इलाहाबाद हाई कोर्ट में चीफ़ जस्टिस थे. शादी के बाद जब शहनाज़ के पति नासिर हुसैन तेहरान में पोस्‍टेड थे, तभी उन्‍होंने आयुर्वेद की पढ़ाई की. इसके बाद उन्‍होंने कॉस्‍मेटिक थिरेपी और कॉस्‍मेटोलॉजी की भी ट्रेनिंग की. ‘हेलेना रुबिनस्‍टीन स्‍कूल’ से ब्‍यूटी टेक्‍नीक्‍स की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्‍होंने जर्मनी में इसी से जुड़े कोर्स किए. 

Pinterest

बरामदे से बेचे अपने प्रोडक्‍ट

भारत लौटने पर सन 1971 में उन्‍होंने अपनी कॉस्‍मेटिक फ़र्म शुरू की. शहनाज़ के लिए सफलता का ये रास्‍ता आसान नहीं रहा. शुरुआत में उन्हें अपने घर के बरामदे में ठेला लगाकर अपने ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट बेचने पड़े. कुछ साल बाद धीरे-धीरे लोगों के बीच उनके प्रोडक्ट्स मशहूर होने लगे. इस दौरान उन्‍हें इस बात का एहसास ही नहीं था कि उनका स्‍टार्टअप इतना सफल हो जाएगा. अगले कुछ सालों में उन्‍होंने ‘द शहनाज़ हुसैन ग्रुप’ की स्‍थापना की. 

kalingatv

ये भी पढ़ें: मिलिए देश के बर्ड मैन से जो 45 सालों से लगातार पक्षियों का पेट भरने का काम कर रहे हैं

शहनाज़ हुसैन इसके बाद भारतीय ब्‍यूटी इंडस्‍ट्री का जाना-माना नाम बन गईं. भारत में मशहूर होने के बाद दुनिया के कई मुल्‍कों में उनके ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स की बिक्री होने लगी. आज भी शहनाज हुसैन के प्रोडक्‍ट नैचुरल इंग्रीडिएंट्स के लिए जाने जाते हैं. इन्‍हें बनाने में केमिकल और आर्टिफ़िशियल फ्रैंगनेंस का इस्‍तेमाल नहीं होता है. यही उनके प्रोडक्‍ट्स की USP भी है. शहनाज़ हुसैन ने अपने इन्हीं प्रोडक्ट्स के ज़रिए पूरी दुनिया में अपनी धाक जमाई. भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) से भी उनकी दोस्‍ती रही है. 

पति व बेटे की मौत के बाद भी नहीं रुकी शहनाज़ 

शहनाज़ हुसैन (Shahnaz Husain) भले ही एक संपन्न परिवार से ताल्लुक़ रखती थीं, लेकिन 70 और 80 के दशक में ब्यूटी एंड प्रोडक्ट्स के क्षेत्र में महिलाओं की न के बराबर भागीदारी के बीच फ़र्श से अर्श तक पहुंचना अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है. साल 1999 में दिल का दौरा पड़ने से उनके पति का निधन हो गया था. इसके बाद साल 2008 में उनके बेटे समीर हुसैन का भी निधन हो गया. अब उनकी विरासत को बेटी निलोफर आगे बढ़ा रही हैं.

cityairnews

138 देशों में क़रीब 1,50,000 स्टोर

आज The Shahnaz Husain Group के 400 से अधिक फ्रेंचाइजी क्लीनिक, स्पा, स्कूल, दुकानें हैं. इसके अलावा त्वचा, बाल, शरीर और स्वास्थ्य देखभाल के लिए आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन भी हैं. इस ग्रुप के 138 देशों में क़रीब 1,50,000 स्टोर हैं.

opportunityindia

शहनाज़ हुसैन को इन पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है

इमेज इंडिया अवार्ड 1985, राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार, द 2000 मिलेनियम मेडल ऑफ़ ऑनर, लायड्स टीएसबी जेवेल अवॉर्ड, लियानार्दो द विंची डायमंड अवॉर्ड, इंटरनेशनल स्टार अवॉर्ड (गुणवत्ता, हीरा उत्पाद खंड), द आर्क ऑफ़ यूरोप गोल्ड स्टार फ़ॉर क्वालिटी अवार्ड, वन ऑफ़ द लीडिंग वीमेन एन्त्रेप्रेंयूर्स ऑफ़ द वर्ल्ड, वीमेन ऑफ़ द डिकेड अवार्ड, फिक्की आउटस्टैंडिंग वीमेन ऑफ़ द ईयर अवार्ड आदि.

ये भी पढ़ें: मिल्कुरी गंगव्वा: खेतों में मज़दूरी की और अब Famous YouTuber के बाद बन गईं हैं साउथ की Actress