क्रिकेट और फ़िल्मी सितारों की दुनिया बड़ी ही चकाचौंध वाली होती है. यहां किसी को फ़ेमस होते देर नहीं लगती, लेकिन कभी-कभी सब कुछ सही चल रहा है होता है और कुछ ऐसा हो जाता है कि सारी मेहनत मिट्टी में मिल जाती है. कुछ इंडियन क्रिकेटर्स के साथ भी ऐसा ही हुआ, उन्होंने जाने-अंजाने में प्रतिबंधित दवाएं खा ली और वो डोप टेस्ट में हो गए फ़ेल.

डोपिंग टेस्ट में फ़ेल होने के बाद इन क्रिकेटर्स को कई दिनों का बैन झेलना पड़ा था. Doping का मतलब होता है कुछ ऐसी दवाएं खाना जिनसे खिलाड़ी का स्टैमिना यानी ताकत काफ़ी बढ़ जाती है.


चलिए जानते हैं कुछ ऐसे क्रिकेटर्स के बारे में जो डोप टेस्ट में फ़ेल होने के चलते हो चुके हैं बैन.   

ये भी पढ़ें:  जानिए वो 7 बेहद अजीबो-ग़रीब वजहें, जिनके चलते सस्पेंड और बैन हुए क्रिकेटर्स

1. युसुफ़ पठान 

पूर्व इंडियन ऑलराउंडर युसुफ़ पठान भी डोप टेस्ट में फ़ेल हो चुके हैं. इन्होंने 2018 में अंजाने में Terbutaline नाम की प्रतिबंधित दवा खा ली थी. इसके लिए BCCI ने इन पर 5 महीने का बैन लगाया था. 

Yusuf Pathan
Source: customercarelife

2. पृथ्वी शॉ 

धाकड़ बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ 20019 में डोपिंग टेस्ट में फ़ेल हुए थे. इन्होंने अंजाने में कफ़ सिरप में पाए जाने वाले एक प्रतिबंधित ड्रग का सेवन कर लिया था. इन्हें 8 महीने का बैन झेलना पड़ा था. 

prithvi shaw
Source: dnaindia

3. अंशुला राव 

डोपिंग के लिए बैन होने वाली पहली महिला क्रिकेटर हैं अंशुला राव. इन्होंने जानबूधकर 19-Norandrosterone नामक स्टेरॉइड का सेवन किया था. 2020 में मध्य प्रदेश की इस क्रिकेटर पर बीसीसीआई ने 4 साल का प्रतिबंध लगा दिया था.  

anshula rao indian cricketer
Source: toi

4. प्रदीप सांगवान 

2013 में दिल्ली के तेज़ गेंदबाज़ Anabolic Steroids खाने के दोषी पाए गए थे. इन पर BCCI की एंटी-डोपिंग ट्रिब्यूनल ने 18 महीने का बैन लगाया था.

pradeep sangwan cricketer
Source: outlookindia

डोपिंग हेल्दी कॉम्पिटिशन के नाम पर कलंक होती है, इससे खिलाड़ियों को दूर ही रहना चाहिए.